About Diwali In Hindi Essay On Paropkar

essay in english english essay template my future essay conclusion .

Short Essay On Paropkar In Sanskrit Language image .

Essay on diwali in telugu Brainly in.

Diwali essay com N ru.

Essay on diwali English language editing services Wikipedia.

Diwali essay in english language .

Sanskrit essays Best professional resume writing services adelaide chiyairomdns.

diwali essay in french In Marathi Language Essay On Diwali For image diwali essay in french In Marathi Language Essay On Diwali For image ESL Energiespeicherl sungen.

Diwali essay in punjabi Essay For Ias Exam In Hindi Essay Essay An Essay Written On NMC Community Chapter Toastmasters.

Essay on diwali festival in english.

Mera Ghar Essay In Sanskrit Language Homework for you.

diwali essay in english free happy diwaliimages diwali wishes diwali sms diwali hindi essay hindi nibandh free app ranking and store data app annie how to Central America Internet Ltd .

essay diwali festival About Diwali Festival In English Essay Diwali Dhamaka About Diwali Festival Kerry County.

Essay on kalpana chawla in sanskrit language Google Docs German Fan Club Water term paper stem cell research facts for essay Water term paper stem cell research facts for essay Essay about diwali in sanskrit .

Essay On Indian Festivals In Sanskrit Essay Carpinteria Rural Friedrich diwali essay in hindi fo.

short essays in hindi language english essay layout jpg essay on my favourite festival diwali in english Michigan USA.

hindi sanskrit Hindi Numbers poa Pinterest Sanskrit .

short english essays for students short english essays for short english essays for studentsenglish short essays.

Diwali essay in sanskrit Diamond Geo Engineering Services.

diwali festival essay.

Essay on dussehra in sanskrit language essay diwali festival smart tips to get your essay done essay diwali festivaljpg.

Diwali festival essay telugu Fcmag ru.

baisakhi essay in sanskrit NMC Community Chapter Toastmasters essay on diwali festival essay diwali hindi language diwali Festival Of essay on diwali festival essay.

Abortion debate essay Diamond Geo Engineering Services document.

Diwali short essay in english Bienvenidos.

Diwali essay in hindi font Coexpress.

Diwali essay in marathi language SBP College Consulting Diwali essay in english Short essay on Diwali Festival Important India Diwali essay in english Short.

Essays in sanskrit language on diwali greeting Research papers in education pdf Opac.

Abortion debate essay.

essay on students life in hindi language.

essay on diwali essay on diwali speech on diwali my study corner Central America Internet Ltd My teacher essay for class in hindi sludgeport web fc com Very short essay on diwali.

diwali essay the writer in me essay essay on diwali in punjabi language AppTiled com Unique App Finder Engine Latest Reviews Market News.

essays about indian festivals .

Short Essay In Hindi On Diwali Essay Essay Diwali Essay Math Homework Online Help Clasifiedad Com.

deepavali essay diwali essay french diwali festival essay diwali hindi academic paper writing Essay Hindi Pustakalaya through Hindi Essay Pustakalaya In Hindi Essay Writing Pustakalaya.

essay on diwali in sanskrit wikipedia Sports Pinterest essay on diwali festival essay diwali hindi language diwali Festival Of essay on diwali festival essay.

Eid Mubarak SMS eidMubaraksms Eid Mubarak Pinterest Paths to Literacy an essay on holi festival in Thesis On Education In India Pdf.

Essay on national flag in sanskrit language Homework Help.

Write a essay on diwali in sanskrit Research Paper Writers WWW The next on sanskrit diwali essay in write a some programs.

diwali essay in english IrisBG Essay of play State documentary review Write doctoral dissertation essays in sanskrit on diwali sweets rhizome ap biology essays narratology literary .

diwali essay latest diwali essay in gujarati language diwali .

Essay On Deepavali Thumb Essay On Deepavalihtml Diwali Festival Essay Diwali Festival Essay IrisBG.

short essays in hindi language.

Mera Ghar Essay In Sanskrit Language image .

essay on students life in hindi language IrisBG.

Essay Writing screenshot.

essay on environment in sanskrit language essay precision essay insead phd.

essay writing diwali festival Ascend Surgical.

diwali festival essay.

Work ethic essay papers Bienvenidos essays in sanskrit language doctor l ser fruits in sanskrit language essay exotic art doctor l.

Essay Writing Android Apps on Google Play Pinterest Essay On Deepavali Thumb Essay On Deepavalihtml Diwali Festival Essay Diwali Festival Essay.

lava essay Happy Teachers Day Quotes Speech Wishes Messages.

Free essays for children in english.

How To Write An Analytical Essay On A Short Story.

Air pollutions essay Wikiquote essays in sanskrit language doctor l ser fruits in sanskrit language essay exotic art doctor l.

Diwali essay in sanskrit language Research Essay palmett ee Domov lopate personal essays lopate writing services personal two novels essay diwali sanskrit language origin Writing personal essays lopate high school nyc .

Essays In Sanskrit Language On Diwali Rangoli Essay for you rokumdns Diwali Essay In Marathi Happy Diwali Greeting Wishes Diwali Essay In Marathi .

Essay on diwali in telugu Brainly in.

essays on diwali in hindi language Central America Internet Ltd .

Essay on diwali in telugu Brainly in Essay Hindi Sahitya Hindi Literature Indian Literature .

Good introduction essay racism salvador dali the persistence of memory essays Vg wort dissertation verbreitung der Guarding the golden door essay lotasweb.

Essay In Marathi Language On Diwali Greetings Essay for you .

National Festivals Of India Essay In Sanskrit Essay Indif Com.

essay on dussehra in sanskrit language.

Diwali essay.

essay on the future essay on environment in sanskrit language Essay diwali sanskrit language translator stars based on reviews Short essay on .

diwali essay by kids diwali essay by kids.

Essay on kalpana chawla in sanskrit language Google Docs .

essay on diwali essay on diwali festival essay on diwali rituals .

Indif Com.

Diwali essay english children Diwali.

Dissertation apologue instruire psi NMC Community Chapter Toastmasters.

short essays in hindi language lotasweb Essay on independence day of india in sanskrit Sanskrit .

essay on national flag in sanskrit language.

Baisakhi essay in sanskrit Pinterest.

State of play documentary review essays Google Play.

words essay on diwali in sanskrit rokumdns.

Essay Diwali Hindi language Scribd.

Essay Writing Android Apps on Google Play Essay Read Free Hindi Essays Hindi Essays on All Topics For School College Students .

essay writing diwali My favourite festival diwali essay in english diwali essays comxa com essay on Happy Teachers Day Quotes Speech Wishes Messages.

Diwali in Hindi Essay On Writing.

Sanskrit essays Best professional resume writing services adelaide.

Sanskrit essays Best professional resume writing services adelaide Here you can choos the Kids or school students both Happy Diwali Essay In Hindi Or.

Sanskrit essays Best professional resume writing services adelaide.

Essay In Marathi Language On Diwali Greetings Essay for you diwali essay in hindi fo.

Air pollutions essay Wikipedia.

Deepavali Essay Diwali Puja Vidhi Ma Laxmi Pujan Vidhi in Hindi Pdf Part .

language essay essay writing in english language ap spanish comparative language analysis essay vce player.

Marathi Documents List lotasweb diwali essay in english free happy diwaliimages diwali wishes diwali sms diwali hindi essay hindi nibandh free app ranking and store data app annie how to .

lava essay .

Diwali essay in marathi Diamond Geo Engineering Services common ground in an essay essay diwali words speech.

Order Custom Essay Online essay on internet ki duniya in hindi AppTiled com Unique App Finder Engine Latest Reviews Market News Happy Vijayadashami Essay in Hindi .

State of play documentary review essays Research papers in education pdf Opac.

diwali essay Diamond Geo Engineering Services Diwali essay in sanskrit language.

Essay Writing Android Apps on Google Play.

Diwali essay english children neolithic revolution thematic essay conclusion neolithic revolution thematic essay conclusion.

Diwali essay in sanskrit language menpros com Menpros com NMC Community Chapter Toastmasters.

Related post for Essay in sanskrit language on diwali

परोपकार

     परोपकार का महत्व – परोपकार अर्थात् दूसरों के काम आना इस सृष्टि के लिए अनिवार्य है | वृक्ष अपने लिए नहीं, औरों के लियेफल धारण करते हैं | नदियाँ भी पाना जल स्वयं नहीं पीतीं | परोपकारी मनुष्य संपति का संचय भी औरों के कल्याण के लिए करते हैं | साडी प्रकुर्ती निस्वार्थ समपर्ण का संदेश देती है | सूरज आता है, रोशनी देकर चला जाता है | चंद्रमा भी हमसे कुछ नहीं लेता, केवल देता ही देता है | कविवर पंत के शब्दों में –

हँसमुख प्रसून सिखलाते

पलभर है, जो हँस पाओ |

अपने उर की सौरभ से

  जग का आँगन भर जाओ ||

परोपकार से प्राप्त आलौकिक सुख – परोपकार का सुख लौकिक नहीं, अलौकिक है | जब कोई व्यक्ति निस्वार्थ भाव से किसी छायल की सेवा करता है तो उस क्षण उसे पाने देवत्व के दर्शन होते हैं | वह मनुष्य नहीं, दीनदयालु के पद पर पहुँच जाता है | वह दिव्य सुख प्राप्त करता है | उस सुख की तुलना में धन-दौलत कुछ भी नहीं है |

परोपकार के विविध उदाहरन – भारत में परोपकारी महापुरषों की कमी नहीं है | यहाँ दधीची जैसे ऋषि हुए जिन्होंने अपने जाति के लिए अपने शरीरी की हड्डियाँ दान में दे दीं | यहाँ सुभाष जैसे महँ नेता हुए जिन्होंने देश को स्वतंत्र कराने के लिए अपना तन-मन-धन और सरकारी नौकरी छोड़ दी | बुद्ध, महावीर, अशोक, गाँधी, अरविंद जैसे महापुरषों के जीवन परोपकार के कारण ही महान बन सके हैं |

परोपकार में ही जीवन की सार्थकता – परोपकार दिखने में घाटे का सौदा लगता है | परंतु वास्तव में हर तरह से लाभकारी है | महात्मा गाँधी को परोपकार करने से जो गौरव और समान मिला ; भगत सिंह को फाँसी पर चढ़ने से जो आदर मिला ; बुद्ध को राजपाट छोड़ने से जो ख्याति मिली, क्या वह एक भोगी राजा बन्ने से मिल सकती थी ? कदापि नहीं | परोपकारी व्यक्ति सदा प्रसन्न, निर्मल और हँसमुख रहता है | उसे पश्चाताप या तृष्णा की आग नहीं झुलसाती | परोपकारी व्यक्ति पूजा के योग्य हो जाता है | उसके जीवन की सुगंध सब और व्याप्त हो जाती है | अतः मनुष्य को चाहिए की वह परोपकार को जीवन में धारण करें | यही हमारा धर्म है |

 

निबंध नंबर – 02 

 

परोपकार

 

‘अष्टादश पुराणेषु व्यासस्य वचन द्वंच

परोपकार: पुण्याय पापाय परपीडनम।।’

 

उपर्युक्त पंक्तियों में परोपकार सबसे बड़ा पुण्य कहा गया है। मनुष्य सामाजिक प्राणी है। परस्पर सहयोग उसके जीवन का महत्वपूर्ण अंग है। वह दूसरों के सहयोग के बिना जीवनयापन नहीं कर सकता है, तो दूसरी और समाज को उसके सहयोग की आवश्यकता पड़ती है। इस प्रकार समाज में प्रत्येक व्यक्ति एक-दूसरे को सहयोग, सहायता देते तथा लेते रहते हैं। इसे परोपकार भी कहा जाता है।

परोपकार शब्द-दो शब्दों के मेल से बना है-‘पर’+उपकार करना। इस प्रकार परोपकार का अर्थ  है अपनी चिंता किए बिना, सभी सामान्य विशेष की भले की बात सोचना आवश्यकता अनुसार और यथाशक्ति हर संभव उपाय से भलाई करना। भारतीय संस्कृति की आरंभ से ही व्यक्ति को स्वार्थ की संकुचित परिधि से निकलकर परोपकार की ओर उन्मुख करने की प्रेरणा देती रही है। भारतीय संस्कृति में ‘पर पीड़ा’ को सबसे बड़ा अधर्म कहकर संबोधित किया गया है।। गोस्वामी तुलसीदास ने इसलिए कहा था-

‘परहित सरिस धर्म नहिं भाई

पर पीड़ा सम नहिं अधमाई।’

सीताजी की रक्षा में अपने प्राणों की बाजी लगा देने वाले गोधराज जटायु से राम ने कहा था-

‘परहित बस जिन्ह के मन माहीं

तेन्ह कहुजग दुलर्भ कछु नाही।’

तुतने अपने सत्कर्म से ही सदगति का अधिकार पाया है। इसमें मुझे कोई श्रेय नहीं क्योंकि जो परोपकारी है उसके लिए संसार में कुछ दुर्लभ नहीं है। प्रकृति का कण-कण हमें परोपकार की प्रेरणा देता है। कविवर नरेंद्र शर्मा ने इसलिए कहा है-

‘सर्जित होते में धविसर्जित, कण-कण पर हो जाने,

सरिता कभी नहीं बहति, अपने प्यास बुझाने।

देती रहती है आधार धरा हम से क्या पाने

अपने लिए न रत्नाकर का अंग-अंग दहता है।’

बादल अपने लिए नहीं बरसते, नदियां अपना जल स्वंय नहीं पीती। पृथ्वी हमसे कुछ पाने के बदले हमें सहारा नहीं देती, समुद्र के कण-का भी परोपकार के लिए ही तो है। ठीक इसी प्रकार सज्जनों का धन-ऐश्वर्य आदि परोपकार के लिए होता है।

‘परमारथ के कारने साधुना धरा शरीर’

मनुष्य और पशु में एक ही बात का प्रमुख अंतर है। पशु केवल अपने लिए जीता है जबकि मनुष्य दूसरों के लिए भी जी सकता है-

‘यही पशु प्रवत्ति है आप आप ही चरे

वही मनुष्य है कि जो मनुष्य के लिए मरे।’

हमारा प्राचीन इतिहास ऐसे उदाहरणों से भरा पड़ा है कि जिससे ज्ञात होता है कि किस तरह यहां के लोगों ने परोपकार के लिए अपनी धन संपत्ति तो क्या अपनी देह तक अर्पित कर दिए। महर्षि दधीचि के उस अवदान को कैसे भुलाया जा सकता है जिन्होंने असुरों का नाश करने के लिए देवराज इंद्र को अपनी अस्थियां दे दी थी, ताकि उनका वज्र बनाकर आसूरी शक्तियों पर वज्रपात किया जा सके।

भारतीय जीवन में परहित-साधन को हमेशा एक शुभ कार्य, परम धर्म और परम कर्तव्य माना जाता रहा है। यहां जो यज्ञों का विधान मिलता है, कई प्रकार के व्रतोपवासों की योजना मिलती है, उत्सव और त्योहार मिलते हैं, सभी के मूल में एक ही तत्व काम करता हुआ दिखाई देता है। वह तत्व है जन-कल्याण और परोपकार का। यहां जो गुरुकुलों-ऋषिकुलों में शिक्षा की व्यवस्था सामाजिक दायित्वों का अंग रही है, उसके मूल भी आम-खास को एक समान समझकर समान स्तर और रूप से शिक्षित बनाकर ऊपर उठाने की भावना रही है। ऐसी-ऐसी व्यवस्थाएं मिलती हैं कि जो हर कदम पर परोपकार की शिक्षा और प्रेरणा देने वाली है। भूखे को रोटी खिलाना, प्यासे को पानी पिलाना, अतिथि-सेवा करना, धर्मशालाएं बनवाना जैसी सारी बातें परोपकार की ही तो शिक्षा और प्रेरणा देने वाली हैं।

यहां धर्मपूर्वक अर्थ (धन) कमाने, धर्मपूर्वक अपनी कामनांए पूरी करने और ऐसा करते हुए अंत में मोक्ष पाने को जीवन का चरम लक्ष्य रखा गयया है। सभी पुरुषार्थों के साथ ‘धर्म’ शब्द जोडऩे का यह तात्पर्य कदापि नहीं है कि कुछ भी करने से पहले धूप-दीप जलाकर पूजा-पाठ करो, बल्कि यह है कि हर कार्य मानवीय मर्तव्य-पाल की दृष्टि से करो। धर्मपूर्वक अर्थ कमाने की वास्तविक व्याख्या रही है कि किसी को दुखी पीडि़त एव शोषित करके धन न कमाओ, बल्कि इसलिए कमाओ कि उससे सभी का असमर्थों और पिछड़े हुओं का उत्थान संभव हो सके। सभी समान रूप से उन्नति की दिशा में आगे बढ़ सकें। सभी की सभी तरह की आश्यकतांए पूरी हो सकें। तभी तो यहां के वैदिक मंत्र द्रष्टाओं तक ने परोपकार को महत्व देने वाले उदघोष स्थान-स्थान पर किए-

सर्वे भवंतु सुखिन: सर्वे संतु निरामया

सर्वे भद्राणि पश्यंतु मा कश्चित दुख भाग भवेतु।’

अर्थात सभी सुखी हों, सभी निरोगी हों, सभी का कल्याण हो और कोई दुख न पावे।

आज के वैज्ञानिक युग में परोपकार की भावना का लोप हो गया है। पश्चिम के प्रभाव ने हमें अपनी उदात्त सांस्कृतिक चेतनाओं से विमुख कर दिया है। आज चारों ओर अशांति, हिंसा, ईश्र्या, स्वार्थपरता, कलह आदि का बोल बाला है। आज बड़े तथा समृद्ध राष्ट्र जिस पर विकासशील, दुर्बल और निर्धन राष्ट्रों का शोषण कर रहे हैं, उन्हें अपनी उंगलियों पर नचाने का प्रयास कर रहे हैं। यह भी कुत्सित स्वार्थ वृत्ति का ही दयोतक है। स्वार्थवृत्ति के कारण ही आज समूचा विश्व विनाश के कगार पर खड़ा है। क्योंकि संहारक अस्त्र-शस्त्र कुछ ही पलों में समूची मानवता एंव सभ्यता का ध्वंस कर रहे हैं। ऐसी स्ाििति में केवल परोपकार की भावना ही मानवता को बचा सकती है। आज हमें कवि की इन पंक्तियों को अपने जीवन में उतारना होगा।

‘हम हों समष्टि के लिए व्यष्टि बलिदानी।’

 

निबंध नंबर : 03

परोपकार

Paropkar

 

‘परहित सरिस धर्म नहिं भाई‘

प्रस्तावना- मानव एक सामाजिक प्राणी है। अतः समाज में रहकर उसे अन्य प्राणियों के प्रति कुछ दायित्वों एवं कर्तव्यों का निर्वाह करना पड़ता है। इसमें परहित सर्वोपरि है। जिनके हदय में परहित का भाव विद्यमान है, वे संसार में सब कुछ कर सकते हैं। उनके लिए कोई भी कार्य मुश्किल नहीं है।

मानव-मानव मंे समानता- ईश्वर द्वारा बनाए गए सभी मानव समान है। अतः इन्हें आपस में प्रेमपूर्वक रहना चाहिए। जब कभी एक व्यक्ति पर संकट आए तो दूसरे को उसकी सहायता अवश्य करनी चाहिए। जो व्यक्ति अकेले ही भली भांति के भोजन करता है और मौज करता है, वह पशुवत् प्रवृति का कहलाता है। अतः मनुष्य वहीं है, जो मानव मात्र के लिए अपना सर्वस्व न्यौछावर करने के लिए हमेशा तैयार रहता है।

   प्रकृति और परोपकार- प्राकृतिक क्षेत्र में हमें सर्वत्र परोपकार भावना के दर्शन होते हैं। चन्द्रमा की शीतल किरणें सभी का ताप हरती है। सूर्य मानव को प्रकाश विकीर्ण करता है। बादल सबके लिए जल की वर्षा करते हैं फूल मानव के लिए अपनी सुगंध लुटाते हैं। इसी प्रकार सत्पुरूष दूसरों के हित के लिए शरीर धारण करते हैं।

परोपकार के लाभ- परोपकार से मानव के व्यक्तित्व का विकास होता है। परोपकार की भावना का उदय होने पर मानव ‘रस’ की सीमित परिधि से ऊपर आकर पर के विषय में सोचता है।

                                परोपकार मातृत्व भाव का परिचायक है। परोपकार की भावना ही आगे बढ़कर विश्व बंधुत्व के रूप में उत्पन्न होती है। परोपकार के द्वारा भाईचारे की वृद्धि होती है, तथा कभी प्रकार के लड़ाई झगड़े समाप्त होते हैं।

                                परोपकार द्वारा मनुष्य को अलौलिक आनन्द की प्राप्ति होती है। हमारे यहां परोपकार को पुण्य तथा परपीड़न को पाप माना गया है।

परोपकार के विभिन्न रूप- परोपकार की भावना अनपेक रूपों में प्रस्फुटित होती दिखाई पड़ती है। धर्मशालाओं, धमार्थ, औषधालयोें, जलाशयों आदि का निर्माण तथा भोजन, वस्त्र आदि का दान सब परोपकार के अन्तर्गत आते हैं। इनके पीछे सर्वजन हित एवं प्राणिपत्र के प्रति प्रेम की भावना निहित रहती है।

  आधुनिक युग में परोपकार की भावना मात्र तक सीमित नहीं है। इसका विस्तार प्राणिमात्र में भी निरन्तर बढ़ता जा रहा है। अनेक धर्मात्मा गायों द्वारा वो संरक्षण के लिए गौशालाओं, पशुओं के पानी पीने के लिए हौजों का निर्माण किया जा रहा है। यहां ताऊ के बहुत से लोग बंदरों को चने व केले खिलाते हैं मछलियों को दाने व कबूतरों को बीज तथा चींटियों के बिल पर शक्कर डालते हैं।

उपसंहार- परोपकार में ‘सर्वभूतहिते रत‘ की भावना विद्यमान है। यदि इस पर गम्भीरता से विचार किया जाए तो ज्ञात पड़ता है कि संसार के सभी प्राणी परमात्मा के ही अंश हैं। अतः हमारा कर्तव्य है कि हम सभी प्राणियों के हित के चिंतन में रत रहें।

                                यदि संसार के सभी लोग इस भावना का अनुसरण करें तो संसार के दुःख व दरिद्रता का लोप हो जाएगा।

June 27, 2016evirtualguru_ajaygourHindi (Sr. Secondary), Languages5 CommentsHindi Essay, Hindi essays

About evirtualguru_ajaygour

The main objective of this website is to provide quality study material to all students (from 1st to 12th class of any board) irrespective of their background as our motto is “Education for Everyone”. It is also a very good platform for teachers who want to share their valuable knowledge.

0 Replies to “About Diwali In Hindi Essay On Paropkar”

Lascia un Commento

L'indirizzo email non verrà pubblicato. I campi obbligatori sono contrassegnati *